IPL 2021 Revenue Losses: स्थगित होने के बाद भी आईपीएल खिलाड़ियों को मिलेगा पूरा पैसा, जानिए कारण

IPL 2021 Revenue Losses: आईपीएल के स्थगित होने के बाद भी खिलाड़ियों को मिलेगा पूरा पैसा, जानिए क्या है इसके पीछे का…

IPL 2021: आईपीएल के स्थगित होने के बाद भी खिलाड़ियों को मिलेगा पूरा पैसा
IPL 2021: आईपीएल के स्थगित होने के बाद भी खिलाड़ियों को मिलेगा पूरा पैसा

IPL 2021 Revenue Losses: आईपीएल के स्थगित होने के बाद भी खिलाड़ियों को मिलेगा पूरा पैसा, जानिए क्या है इसके पीछे का गणित – इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) के निलंबन के साथ बीसीसीआई, ब्रॉडकास्टर स्टार स्पोर्ट्स और लीग की आठ फ्रेंचाइजियों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। टूर्नामेंट के स्थगित होने से लीग के कई हितधारक प्रभावित होंगे, जिसमें सेंट्रल पूल को लगभग INR 2000 करोड़ का नुकसान होगा। आईपीएल 2020 के बाद डफ और फेल्प्स की ओर से 6.2 बिलियन डॉलर मूल्य की लीग के राजस्व चक्र का भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि इस साल सीजन को फिर से शुरू किया जाएगा या नहीं। लेकिन आगे जो भी हो, खिलाड़ियों को उनके कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार पूरा भुगतान किया जाएगा। InsideSport को मिली जानकारी के अनुसार भी सभी आईपीएल प्लेयर्स के वेतन का पूरा भुगतान किया जाएगा।

एक आईपीएल खिलाड़ी के कॉन्ट्रैक्ट की शर्तों के तहत फ्रेंचाइजी तीन किस्तों में वेतन का भुगतान करती है। पहली किस्त का भुगतान पहले ही किया जा चुका है, आखिरी दो भुगतान को टूर्नामेंट के खत्म होने तक किए लिए रखा गया है। भले ही बीसीसीआई लीग को फिर से शुरू न कर सके लेकिन खिलाड़ियों को उनका पूरा वेतन मिलेगा। सभी आईपीएल खिलाड़ियों का वेतन फ्रेंचाइजी बीमा पॉलिसी के तहत बीमित होता है जो उन्हें चोट या किसी अन्य दुर्घटना की स्थिति में कवर करता है। InsideSport Moneyball के अनुसार आईपीएल 2021 में खिलाड़ी का कुल वेतन लगभग INR 483 करोड़ है।

लीग एक अद्वितीय व्यवसाय मॉडल पर चलती है और आईपीएल के इस प्रकार स्थगित होने से यह हितधारकों को प्रभावित करेगा। अगर इस साल आईपीएल आयोजित नहीं किया गया तो ये एक अप्रत्याशित घटना होगी। इसके अनुसार खेले गए मैचों की संख्या के लिए स्टार बीसीसीआई को समर्थक आधार पर भुगतान करेगा।

स्टार प्रति मैच बीसीसीआई को INR 54.4 करोड़ का भुगतान करता है। इसलिए ब्रॉडकास्ट 29 मैचों के लिए केवल INR 1,577 करोड़ का भुगतान करेगा। बाकी के बचे 31 मैचों के लिए बीसीसीआई को लगभग INR 1,700 करोड़ का नुकसान होगा। बीसीसीआई के लिए राजस्व हानि के साथ ही अन्य नुकसानों को भी जोड़ा जाएगा, यहां तक कि टाइटल प्रायोजक विवो लगभग INR 225 करोड़ (INR 7.3 कोर प्रति खेल) का भुगतान नहीं करेगा।

फ्रेंचाइजी के रूप में बीसीसीआई और आईपीएल टीमें 50:50 के राजस्व बंटवारे के फॉर्मूले पर काम करती हैं। इसलिए बीसीसीआई केंद्रीय पूल से अर्जित राजस्व का 50% मताधिकार के साथ शेयर करेगा।

आधिकारिक पार्टनर टाटा, अन एकेडमी, ड्रीम11, क्रेड, अपस्टॉक्स, पेटीएम और सीईएट ने एक पूरे सीजन के लिए INR 300 करोड़ (लगभग) का संयुक्त भुगतान किया। लेकिन अब वो INR 144 करोड़ से लेकर INR 155 करोड़ का भुगतान नहीं करेंगे। स्टार को भी नुकसान उठाना होगा क्योंकि प्रायोजक उन्हें सहमत हुई पूरी राशि का भुगतान नहीं करेंगे।

ये भी पढ़ें – 10 ऐसे खिलाड़ी जो क्रिकेट के साथ संगीत की दुनिया के भी हैं चैंपियन

Share This: