Wrestling
Wrestlers Protest: खेल मंत्री ने फेडरेशन भंग करने से किया मना, पहलवान अपनी मांगो पर अड़े, आज फिर बैठक-Check OUT

Wrestlers Protest: खेल मंत्री ने फेडरेशन भंग करने से किया मना, पहलवान अपनी मांगो पर अड़े, आज फिर बैठक-Check OUT

Wrestlers Protest: शीर्ष भारतीय पहलवानों की केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर (Sports Minister Anurag Thakur) के साथ गुरुवार रात हुई बैठक बेनतीजा रही क्योंकि उन्होंने सरकार के भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) को तुरंत भंग करने की अपनी मांग से पीछे हटने से इनकार कर दिया। डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह (Brij Bhushan Sharan Singh) के […]

Wrestlers Protest: शीर्ष भारतीय पहलवानों की केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर (Sports Minister Anurag Thakur) के साथ गुरुवार रात हुई बैठक बेनतीजा रही क्योंकि उन्होंने सरकार के भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) को तुरंत भंग करने की अपनी मांग से पीछे हटने से इनकार कर दिया। डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह (Brij Bhushan Sharan Singh) के खिलाफ पहलवानों के विरोध (Wrestlers vs WFI) के दूसरे दिन गुरुवार को रात करीब 10 बजे मैराथन बैठक शुरू हुई। पहलवान रात एक बजकर 45 मिनट पर ठाकुर के घर से निकले और बाहर इंतजार कर रहे पत्रकारों से बात नहीं की। खेल की सभी खबरों के लिए Hindi.InsideSport.In के साथ जुड़े रहें।

ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पूनिया, रवि दहिया, साक्षी मलिक और विश्व चैम्पियनशिप की पदक विजेता विनेश फोगाट बैठक का हिस्सा थे। सरकारी अधिकारियों और विरोध कर रहे पहलवानों के बीच पूर्व में हुई बैठक बेनतीजा रहने के बाद ठाकुर हिमाचल प्रदेश से दिल्ली पहुंचे। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक पहलवान शुक्रवार को फिर से खेल मंत्री से मिलेंगे।

मंत्रालय बृजभूषण शरण सिंह को तब तक इस्तीफा देने के लिए मजबूर नहीं कर सकता जब तक कि उसे डब्ल्यूएफआई से लिखित जवाब नहीं मिल जाता क्योंकि सरकार ने खुद कुश्ती संघ से स्पष्टीकरण मांगा है।

डब्ल्यूएफआई ने अभी तक खेल मंत्रालय को जवाब नहीं दिया है जिसने बुधवार को कुश्ती संघ को कई महिला खिलाड़ियों के यौन उत्पीड़न और उसके अध्यक्ष द्वारा डराने-धमकाने के आरोपों का जवाब देने के लिए 72 घंटे का समय दिया था।

सूत्रों के मुताबिक सरकार चाहती है कि पहलवान अपना विरोध-प्रदर्शन खत्म करें लेकिन खिलाड़ी इस बात पर अड़े हैं कि पहले डब्ल्यूएफआई को भंग किया जाए।

पहलवानों के एक करीबी सूत्र ने पीटीआई से कहा, ‘‘सरकार अन्य मुद्दों को बाद में सुलझा सकती है। हमें इसमें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन उसे पहले डब्ल्यूएफआई को भंग करना चाहिए।’’ बजरंग, विनेश, अंशु मलिक, साक्षी और उनके पति सत्यव्रत कादियान सहित पहलवानों की एक टीम ने गुरुवार को सरकारी अधिकारियों से मुलाकात की और खेल सचिव सुजाता चतुर्वेदी और भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के महानिदेशक संदीप प्रधान के साथ अपने मसलों पर चर्चा की।

घंटे भर चली बैठक के दौरान पहलवानों से अपना विरोध खत्म करने को कहा गया और आश्वासन दिया गया कि उनकी शिकायतों का समाधान किया जाएगा।

गतिरोध तोड़ने के लिए पूर्व पहलवान और भारतीय जनता पार्टी नेता बबीता फोगाट भी बैठक का हिस्सा थीं।

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों (Latest Cricket News, Sports News, Breaking Sports News, Viral Video) को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

Editors pick