India at Paralympic 2020: भाविनाबेन पटेल ने रचा इतिहास, भारत के लिए जीता सिल्वर मेडल; पैरालंपिक में पदक जीतने वाली सिर्फ दूसरी भारतीय महिला बनीं

India at Paralympic 2020: भावनाबेन पटेल ने रचा इतिहास, भारत के लिए जीता सिल्वर मेडल; पैरालंपिक में पदक जीतने वाली सिर्फ दूसरी…

ndia at Paralympic 2020 LIVE, Tokyo Paralympics 2020, Paralympic Games 2021, India at Paralympic Games, India at Paralympic 2020, Paralympic Games 2020, Tokyo Paralympics Day 4- follow
ndia at Paralympic 2020 LIVE, Tokyo Paralympics 2020, Paralympic Games 2021, India at Paralympic Games, India at Paralympic 2020, Paralympic Games 2020, Tokyo Paralympics Day 4- follow

India at Paralympic 2020: भावनाबेन पटेल ने रचा इतिहास, भारत के लिए जीता सिल्वर मेडल; पैरालंपिक में पदक जीतने वाली सिर्फ दूसरी भारतीय महिला बनीं- 34 साल की भावनाबेन पटेल ने इतिहास रच दिया है। उन्होंने टोक्यो पैरालंपिक में भारत को पहला पदक दिलाया है। वह पैरालंपिक में पदक जीतने वाली सिर्फ दूसरी भारतीय महिला हैं। विश्व की 12वें नम्बर की इस खिलाड़ी ने फाइनल तक का सफर तय किया। आप समझ सकते हैं इस खिलाड़ी ने कैसा खेल दिखाया होगा। उन्होंने विश्व के नंबर आठ, नंबर दो और नंबर 3 के खिलाड़ियों को मात दी। हालांकि, वो अपना फाइनल मुकाबला हार गईं।

34 साल की भाविनाबेन पटेल को फाइनल में चीन की वर्ल्ड नंबर-1 झाउ यिंग ने 11-7, 11-5, 11-6 से मात दी। भाविनाबेन ने शनिवार को सेमीफाइनल में चीन की ही झांग मियाओ को 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से मात देकर फाइनल में जगह बनाई थी।

भाविनाबेन पटेल की जीत पर देश के प्रधानमंत्री ने भी बधाई दी।

Outstanding debut appearance from #IND Bhavina Patel at #Paralympics Bhavina Patel has created history by winning #Silver medal for #IND pic.twitter.com/Yv7AI347p1

सेमीफाइनल में Bhavina Patel ने चीन की Zhang Miao के खिलाफ 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से जीत हासिल कर फाइनल में जगह बनाई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाविनाबेन पटेल को सेमीफाइनल में मिली जीत पर बधाई दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा, ”पूरा देश आपकी सफलता के लिए प्रार्थना कर रहा है और कल आपके लिए चीयर करेगा। अपना सर्वश्रेष्ठ दें और बिना किसी दबाव के खेलें। आपकी उपलब्धियां पूरे देश को प्रेरित करती हैं।

गुजरात के मैहसाणा जिले में एक छोटी परचून की दुकान चलाने वाले हंसमुखभाई पटेल की बेटी भाविना को पदक का दावेदार भी नहीं माना जा रहा था लेकिन उन्होंने अपने प्रदर्शन से इतिहास रच दिया ।

बारह महीने की उम्र में पोलियो की शिकार हुई पटेल ने कहा, ‘‘जब मैं यहां आई तो मैने सिर्फ अपना शत प्रतिशत देने के बारे में सोचा था। अगर ऐसा कर सकी तो पदक अपने आप मिलेगा। मैने यही सोचा था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अगर मैं इसी आत्मविश्वास से अपने देशवासियों के आशीर्वाद के साथ खेलती रही तो कल स्वर्ण जरूर मिलेगा। मैं फाइनल के लिये तैयार हूं और अपना शत प्रतिशत दूंगी।’’

व्हीलचेयर पर खेलने वाली पटेल ने पहला गेम गंवा दिया लेकिन बाद में दोनों गेम जीतकर शानदार वापसी की। तीसरा गेम जीतने में उन्हें चार मिनट ही लगे। चौथे गेम में चीनी खिलाड़ी ने फिर वापसी की लेकिन निर्णायक पांचवें गेम में पटेल ने रोमांचक जीत दर्ज करके फाइनल में प्रवेश किया।

दुनिया की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी झांग के खिलाफ पटेल की यह पहली जीत थी । दोनों इससे पहले 11 बार एक दूसरे से खेल चुके हैं ।

DAY-3

उन्होंने सर्बिया की डिफेंडिंग चैंपियन बोरिसलावा पेरीक रैंकोविक को सीधे तीन गेमों में 11-5, 11-6, 11-7 से हरा दिया। इसके साथ ही भाविनाबेन (Bhavina Patel) ने भारत के लिए टोक्यो पैरालिंपिक में पदक भी पक्का कर दिया। टोक्यो पैरालिंपिक में कांस्य पदक के लिए कोई प्लेऑफ नहीं है। वह अब इस टूर्नामेंट में पदक जीतने वाली पहली भारतीय बन सकती हैं। India at Paralympic 2020 LIVE, Tokyo Paralympics 2020, Paralympic Games 2021, India at Paralympic Games, India at Paralympic 2020, Paralympic Games 2020, Tokyo Paralympics Day 4- follow hindi.insidesport.in

दूसरी ओर, भारतीय पावरलिफ्टर सकीना खातून तोक्यो पैरालम्पिक में महिलाओं के 50 किलोवर्ग में पांचवें स्थान पर रहीं। भारतीय कंपाउंड तीरंदाज राकेश कुमार ने कैरियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 720 में से 699 अंक बनाकर पैरालम्पिक खेलों में पुरूषों के ओपन वर्ग के रैंकिंग दौर में तीसरा स्थान हासिल कर लिया। पुरूषों के रिकर्व ओपन वर्ग में 2019 के एशियाई पैरा चैम्पियनशिप विजेता विवेक चिकारा शीर्ष दस में रहे।

राष्ट्रमंडल खेल 2014 की कांस्य पदक विजेता सकीना का सर्वश्रेष्ठ प्रयास 93 किलो रहा। चीन की डेंडान हू ने 120 किलो उठाकर स्वर्ण पदक जीता जबकि मिस्र की रेहाब अहमद ने रजत और ब्रिटेन की ओलिविया ब्रूम ने कांस्य पदक जीता। 32 वर्ष की खातून ने पहले प्रयास में 90 किलो वजन उठाया। दूसरे प्रयास में उन्होंने 93 किलो की कोशिश की लेकिन नाकाम रही। तीसरे प्रयास में उन्होंने 93 किलो वजन उठाया।

खातून राष्ट्रमंडल खेल में पदक जीतने वाली भारत की अकेली पैरालम्पियन हैं जिन्होंने ग्लास्गो में 2014 में यह कारनामा किया था । उन्होंने 2018 पैरा एशियाई खेलों में भी रजत पदक जीता था। पावरलिफ्टिंग में वे खिलाड़ी भाग लेते हैं जो पैरों या कूल्हे में विकार के साथ सामान्य (स्टैंडिंग) भारोत्तोलन में भाग नहीं ले सकते।

दुनिया के 11वें नंबर के तीरंदाज राकेश ने इस साल दुबई में पहले विश्व रैंकिंग टूर्नामेंट में व्यक्तिगत स्पर्धा का स्वर्ण जीता था । वह दूसरे स्थान पर रहने से मामूली अंतर से चूक गए क्योंकि ईरान के रमेजान बियाबानी का स्कोर भी 699 था लेकिन बीचोंबीच अधिक तीर चलाने के कारण वह बाजी मार गए ।

राकेश ने 53 बार परफेक्ट 10 स्कोर किया जबकि ईरानी तीरंदाज ने 18 बार यह कमाल किया। भारत के श्याम सुंदर स्वामी 682 अंक लेकर 21वें स्थान पर रहे। पैरालम्पिक के लिए क्वालीफाई करने वाली एकमात्र भारतीय महिला तीरंदाज ज्योति बालियान कंपाउंड ओपन वर्ग में 15वें स्थान पर रही। एशियाई पैरा चैम्पियनशिप 2019 में टीम रजत पदक विजेता ज्योति ने 671 स्कोर किया । उन्हें और राकेश को मिश्रित युगल ओपन वर्ग में छठी रैंकिंग मिली है। वे थाईलैंड के खिलाफ अपने अभियान का आगाज करेंगे।

पुरूषों के रिकर्व ओपन वर्ग में चिकारा 609 अंक लेकर शीर्ष 10 में रहे। उन्होंने 20 बार परफेक्ट 10 स्कोर किया जबकि 2018 पैरा एशियाई खेल चैम्पियन हरविंदर सिंह शीर्ष 20 से बाहर रहे। ओपन श्रेणी में व्हीलचेयर और स्टैंडिंग दोनों वर्ग होते हैं । पैरों में विकार वाले खिलाड़ी व्हीलचेयर पर बैठकर निशाना लगा सकते हैं। इसमें सहायक उपकरणों का इस्तेमाल विकार के आधार पर किया जा सकता है । इसके साथ ही कमान के तार को मुंह से खींचकर भी निशाना लगाने की अनुमति रहती है।

India at Paralympic 2020 LIVE, Tokyo Paralympics 2020, Paralympic Games 2021, India at Paralympic Games, India at Paralympic 2020, Bhavina Patel, Paralympic Games 2020, Tokyo Paralympics Day 4- follow hindi.insidesport.in

ये भी पढ़ें- Tokyo Olympics: पाकिस्तान के Arshad Nadeem ने फाइनल से पहले ले लिया था Neeraj Chopra का भाला, देखिए VIDEO

DAY-2

इससे पहले भाविनाबेन पटेल ने ग्रुप 4 के मुकाबले में 3-1 से ग्रेट ब्रिटेन की मेगन शैकलटन को हराया था।  भारत की 34 वर्षीय खिलाड़ी ने विश्व में नौवें नंबर की शैकलटन को 41 मिनट तक चले मैच में 11-7, 9-11, 17-15, 13-11 से हराया। विश्व में 12वें नंबर की भारतीय के लिये यह करो या मरो वाला मैच था। उन्होंने पहला गेम केवल आठ मिनट में जीता लेकिन शैकलटन ने दूसरा गेम जीतकर अच्छी वापसी की।

इसके बाद अगले दो गेम में दोनों खिलाड़ियों ने अपनी जी जान लगा दी, लेकिन भारतीय खिलाड़ी ने महत्वपूर्ण मौकों पर अंक बनाये और जीत हासिल करने में सफल रही।  भाविनाबेन की यह टूर्नामेंट में पहली जीत है क्योंकि वह पहले मैच में विश्व की नंबर एक चीनी खिलाड़ी झोउ यिंग से 0-3 से हार गयी। भाविनाबेन के दो मैचों में तीन अंक रहे और वह यिंग के साथ नॉकआउट चरण में पहुंचने में सफल रही।

DAY-1

इससे पहले सोनल पटेल को टेबल टेनिस स्पर्धा में हार का सामना करना पड़ा है। उन्हें महिला सिंगस्ल क्लास-3 ग्रुप डी के मुकाबले में चीन की खिलाड़ी ली कियान 3-2 से हरा दिया। वहीं, एक अन्य मुकाबले में भाविना पटेल चाइना की वाई झोउ के खिलाफ कड़ी टक्कर के बाद अपने पहले ग्रुप मैच में 0-3 से हार गई हैं।


 

पैरा खिलाड़ियों के जज्बे को सलाम करते हुए मंगलवार को टोक्यो में 16वें पैरालंपिक खेलों की शुरुआत हुई थी। इसके उद्घाटन समारोह में कोविड-19 महामारी के कारण हो रही रुकावटों के बीच आगे बढ़ने का संदेश दिया गया। पैरालंपिक खेल 57 सालों के बाद टोक्यो में फिर से आयोजित हो रहे हैं, जिससे जापान की राजधानी दो बार इन खेलों की मेजबानी करने वाला पहला शहर बन गया है। Tokyo Paralympics 2020, Bhavina Patel, Tokyo Paralympics Day 3, Paralympic Games 2021, India at Paralympic Games, India at Paralympic 2020, Paralympic Games 2020- follow hindi.insidesport.in

Share This: