Ranji Trophy 2022: भारतीय क्रिकेट की ‘रीढ़’ कही जाने वाली रणजी ट्रॉफी की दो साल बाद वापसी, दो साल से कोरोना के कारण रणजी ट्रॉफी थी स्थगित

Ranji Trophy 2022: देश में कोविड-19 की स्थिति में सुधार के बाद भारतीय क्रिकेट की रीढ़ रणजी ट्राफी (Ranji Trophy) की दो…

Ranji Trophy 2022: भारतीय क्रिकेट की ‘रीढ़’ कही जाने वाली रणजी ट्रॉफी की दो साल बाद वापसी, दो साल से कोरोना के कारण रणजी ट्रॉफी थी स्थगित
Ranji Trophy 2022: भारतीय क्रिकेट की ‘रीढ़’ कही जाने वाली रणजी ट्रॉफी की दो साल बाद वापसी, दो साल से कोरोना के कारण रणजी ट्रॉफी थी स्थगित

Ranji Trophy 2022: देश में कोविड-19 की स्थिति में सुधार के बाद भारतीय क्रिकेट की रीढ़ रणजी ट्राफी (Ranji Trophy) की दो साल बाद गुरुवार को जैव सुरक्षित वातावरण (Ranji Trophy 2022 in Bio Bubble) में वापसी होगी जिसमें कई घरेलू क्रिकेटरों को लंबी अवधि की क्रिकेट में अपना जलवा दिखाने तो अंजिक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) और चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) जैसे अनुभवी खिलाड़ियों को अपने टेस्ट करियर की संभावनाओं को बरकरार रखने का मौका मिलेगा। खेल की ताजा खबरों के लिए जुड़े रहिए- hindi.insidesport.in

Ranji Trophy 2022: दो साल बाद आयोजित किया जायेगा रणजी ट्राफी

कोविड-19 की तीसरी लहर के कारण देश की प्रमुख घरेलू प्रतियोगिता पर लगातार दूसरे साल खतरा मंडराने लगा था लेकिन संक्रमण में कमी आने के बाद भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने इसका आयोजन करने का फैसला किया। प्रतियोगिता में 38 टीम भाग लेंगी और ऐसे में बायो बबल में हर तरह की तैयारियां करना चुनौती है। सभी की निगाहें मौजूदा चैंपियन सौराष्ट्र और 41 बार के विजेता मुंबई के बीच होने वाले मैच पर टिकी रहेंगी जिसमें रहाणे (Ajinkya Rahane) और पुजारा (Cheteshwar Pujara) आमने-सामने होंगे। इन दोनों का लक्ष्य बड़ा स्कोर बनाना होगा क्योंकि टेस्ट स्तर पर वह पिछले लंबे समय से ऐसा नहीं कर पाये हैं।

ये दोनों अनुभवी बल्लेबाज नेट्स पर कड़ी मेहनत कर रहे हैं और उनके कोच को लगता है कि वे बड़ी पारियां खेलेंगे। रहाणे (Ajinkya Rahane) और पुजारा (Cheteshwar Pujara) को तुरंत ही प्रभाव छोड़ना होगा क्योंकि श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के लिये टीम की घोषणा जल्द की जानी है। प्रतियोगिता देश के नौ स्थानों पर होगी जहां नौ बायो बबल तैयार किये गये हैं। खिलाड़ियों को पांच दिन तक पृथकवास पर रहना पड़ा जिसके कारण उन्हें गुरुवार से शुरू होने वाले पहले दौर के मैचों से पहले केवल दो दिन अभ्यास का समय मिला। लेकिन खिलाड़ी शिकायत करने के मूड में नहीं हैं। उन्हें खुशी है कि दो सत्र तक सीमित ओवरों के प्रारूप में खेलने के बाद आखिर उन्हें सबसे चुनौतीपूर्ण प्रारूप में खेलने का मौका मिल रहा है।

Ranji Trophy 2022: एलीट ग्रौप्पिंग सिस्टम के हिसाब से आयोजित किया जायेगा रणजी ट्राफी 2022 

दिल्ली के कोच राजकुमार शर्मा ने कहा, ‘‘यह बहुत अच्छा है कि लाल गेंद से क्रिकेट फिर से शुरू हो रहा है। खिलाड़ियों को पिछले दो वर्षों में वित्तीय और कौशल के लिहाज से काफी नुकसान हुआ। वे सभी इस चुनौती के लिये तैयार हैं।” सबसे कम अवधि का प्रथम श्रेणी सत्र होगा जिसमें प्रत्येक टीम को केवल तीन लीग मैच खेलने को मिलेंगे। ऐसे में उनकी मैच फीस प्रभावित होगी और उन्हें गलती सुधारने के ज्यादा मौके भी नहीं मिलेंगे।

एलीट वर्ग में कुल आठ ग्रुप बनाये गये हैं जिसमें से प्रत्येक ग्रुप में चार टीम रखी गयी हैं जबकि प्लेट ग्रुप में छह टीम हैं। एकमात्र प्री क्वार्टर फाइनल को छोड़कर नॉकआउट चरण के मैच इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के बाद 30 मई से शुरू होंगे। प्रियांक पांचाल, अभिमन्यु ईश्वरन और हनुमा विहारी जैसे खिलाड़ियों पर भी निगाहें टिकी रहेंगी। भारत के अंडर-19 टीम के खिलाड़ियों यश धुल और राज अंगद बावा को प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण का मौका मिलेगा। पहली पारी पूरी नहीं होने पर दोनों टीम को एक-एक अंक दिया जाएगा। मैच राजकोट, कटक, अहमदाबाद, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, दिल्ली, हरियाणा, गुवाहाटी और कोलकाता में खेले जाएंगे। (भाषा)

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें

Share This: