अपने खेल में और सुधार लाने पर काम कर रहे हैं युवा फुटबॉलर अनिरुद्ध थापा 

अपने खेल में और सुधार लाने पर काम कर रहे हैं युवा फुटबॉलर अनिरुद्ध थापा – भारत के युवा फुटबॉलर अनिरुद्ध थापा ने…

मौकों को गोल में बदलने में सुधार करने की जरूरत - अनिरुद्ध थापा
मौकों को गोल में बदलने में सुधार करने की जरूरत - अनिरुद्ध थापा

अपने खेल में और सुधार लाने पर काम कर रहे हैं युवा फुटबॉलर अनिरुद्ध थापा – भारत के युवा फुटबॉलर अनिरुद्ध थापा ने कहा कि वह मौकों को भुनाकर गोल करने की दर में सुधार करने और मैचों के दौरान विभिन्न परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाने पर ध्यान दे रहे हैं.

यह 23 वर्षीय मिडफील्डर अगले महीने कतर में होने वाले फीफा विश्व कप 2022 और एशियाई कप 2023 के क्वालीफायर्स से पूर्व अभी भारतीय फुटबॉल टीम के साथ दोहा में अभ्यास कर रहा है.

थापा ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की विज्ञप्ति में कहा, “मुझे कई पहलुओं पर सुधार करने की जरूरत है. मुझे अधिक मौकों को भुनाना होगा. मैं जानता हूं कि मैं बेहतर कर सकता हूं. मुझे मैच के दौरान बदलती परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाना सीखना होगा.”

उन्होंने कहा, “उदाहरण के लिए मैच के दौरान कुछ ऐसे भी चरण आ सकते हैं जब हमें सीधी फुटबॉल खेलने की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में मुझे थोड़ा आगे बढ़कर अधिक मौके बनाने होंगे.”

थापा ने कहा, “लेकिन साथ ही यह भी देखना होगा कि मध्य पंक्ति में स्थान खाली न छूटे. मैं संतुलन बनाना सीख रहा हूं. मुझे अपने पीछे के खिलाड़ियों की स्थिति देखकर फिर आगे बढ़ना होगा.”

भारतीय टीम ग्रुप ई में तीन अंक के साथ चौथे स्थान पर है. वह विश्व कप में जगह बनाने की दौड़ से बाहर हो चुकी है लेकिन एशियाई कप में जगह बनाने की उसकी उम्मीदें बनी हुई हैं.

भारत का पहला मैच मेजबान और एशियाई चैम्पियन कतर के खिलाफ तीन जून को होगा. इसके बाद टीम सात जून को बांग्लादेश और 15 जून को अफगानिस्तान से भिड़ेगी.

भारतीय टीम ने पिछली बार कतर का सामना उसकी धरती पर ही किया था. यह मैच गोलरहित बराबरी पर छूटा था. थापा ने कहा, “यह 18 महीने पुरानी बात है. अब स्थिति भिन्न है लेकिन हम जानते हैं कि कतर इस मैच का बेसब्री से इंतजार कर रहा है. हम जानते हैं कि हमें मैदान पर अच्छा प्रदर्शन करना होगा. हम निराश नहीं होना चाहते हैं.”

उन्होंने कहा, “हम यहां केवल संख्या बढ़ाने के लिए नहीं आए हैं. हमें अपनी क्षमताओं पर विश्वास है और हम एक समय पर एक मैच पर ध्यान दे रहे हैं.”

नोट: ये स्टोरी पीटीआई द्वारा प्रकाशित की गई थी.

ये भी पढ़ें – AIFF की भारतीय महिला टीम के लिए योजना को खेल मंत्रालय और SAI का समर्थन मिला

Share This: