Cricket
‘लाकर ठाकुरजी के चरणों में रखना’ जुरैल ने बताया डेब्यू कैप मिलने पर पिता ने दी क्या सलाह

‘लाकर ठाकुरजी के चरणों में रखना’ जुरैल ने बताया डेब्यू कैप मिलने पर पिता ने दी क्या सलाह

ध्रुव जुरैल ने मुकाबले के तीसरे दिन रनों की कमी से जूझ रही भारतीय टीम के लिए 90 रनों की अहम पारी खेली। हालांकि, वह अपने शतक से चूक गए।

IND vs ENG Dhruv Jurel: भारत और इंग्लैंड के बीच चौथे टेस्ट मैच का तीसरा दिन रोहित शर्मा एंड कंपनी के नाम रहा। दिन की शुरूआत ध्रुव जुरैल ने शानदार तरीके से की। मैच के बाद जुरैल ने अपने पिता की एक ख्वाहिश का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि पिता चाहते हैं कि वह अपनी डेब्यू कैप को वापिस सीरीज से वापिस लौटने पर सबसे पहले भगवान के चरणों में रखें।

मैच के तीसरे दिन रनों की कमी में संघर्ष कर रही भारतीय टीम को जुरैल ने आखिर तक संभाले रखा और निचले क्रम के साथ मिलकर भी कमाल की बल्लेबाजी की। हालांकि, वह अपने शतक से चूक गए। जुरैल ने 149 गेंदों में 6 चौके और 4 चौकों की मदद से 90 रनों की पारी खेली।

विकेटकीपर बल्लेबाज ने मैच के बाद आकाश चोपड़ा और आवैश शाह से बातचीत करते हुए बताया कि उनके माता-पिता काफी धार्मिक हैं और अक्सर मंदिरों में जाना पसंद करते हैं। उन्होंने कहा, “जब वो (द्रविड़) कैप दे रहे थे मैं स्लो मोशन में चला गया था, बस उन्हें (मम्मी-पापा को) देख रहा था। मेरे मम्मी-पापा बहुत धार्मिक हैं, वो मथुरा-वृंदावन जाते रहते हैं। पापा ने कहा जब भी कैप मिलती है, तो लाकर ठाकुर जी के चरणों में रख देना।”

यह भी देखेंः IND vs ENG: इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ने महान शेन वॉर्न से की कुलदीप यादव की तुलना

यह भी देखेंः

यह भी देखेंः लाहौर कलंदर्स के लिए आई बुरी खबर, हारिस रऊफ PSL 2024 से हुए बाहर

इंग्लैंड के खिलाफ शानदार प्रदर्शन दिखाने वाले ध्रुव जुरैल अपने पहले इंटरनेशनल शतक से महज 10 रनों से चूक गए। लेकिन विकेटकीपर बल्लेबाज को इस बात का बिल्कुल भी मलाल नहीं है। उन्होंने कहा, “मुझे शतक चूकने का मलाल बिल्कुल भी नहीं है, मैं बस टीम को सीरीज की वो ट्रॉफी जीतते हुए देखना चाहता हूं और अपने हाथों से उठाना चाहता हूं।”

Editors pick