Cricket
‘मैं पुजारा जैसी बैटिंग नहीं कर सकता’, पृथ्वी शॉ ने क्यों कहा ऐसा

‘मैं पुजारा जैसी बैटिंग नहीं कर सकता’, पृथ्वी शॉ ने क्यों कहा ऐसा

पृथ्वी शॉ ने कहा कि वह राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह वापस हासिल करने के लिए चेतेश्वर पुजारा सर की तरह बल्लेबाजी नहीं कर सकते

अपने करियर की शानदार शुरुआत के बाद पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) अब भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) में जगह बनना की दौड़ में काफी पिछड़ गये है लेकिन मुंबई के इस युवा खिलाड़ी ने शनिवार को कहा कि वह राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह वापस हासिल करने के लिए अपने स्वाभाविक ‘आक्रामक’ खेल पर भरोसा करना जारी रखेंगे। शॉ ने भारत के लिए अपना पिछला मैच जुलाई 2021 में कोलंबो में श्रीलंका के खिलाफ टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में खेला था।

शॉ ने मध्य क्षेत्र और पश्चिम क्षेत्र के बीच खेले गये दलीप ट्रॉफी के मैच के बाद कहा, ‘‘ व्यक्तिगत तौर पर मैं ऐसा नहीं मानता हूं कि मुझे अपने खेल में बदलाव करने की जरूरत है। हां , मैं अपने खेल में समझदारी के साथ सुधार कर सकता हूं। मैं चेतेश्वर पुजारा सर की तरह बल्लेबाजी नहीं कर सकता या पुजारा सर मेरी तरह बल्लेबाजी नहीं कर सकते।’’

यह भी पढ़ें: वेस्टइंडीज का 140 किलो का ये खिलाड़ी बन सकता है भारत के लिए खतरा, टी20 में जड़ चुका है दोहरा शतक

पश्चिम क्षेत्र के इस सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘‘ मैं उसी चीज को करने की कोशिश कर रहा हूं जिसकी मदद से यहां तक पहुंचा हूं। उदाहरण के तौर पर मेरी आक्रामक बल्लेबाजी। मैं इस में बदलाव नहीं करना चाहता हूं।’’

शॉ ने कहा कि वह अपने करियर के इस चरण में अधिक से अधिक मैच खेलना चाह रहे हैं।

इस 23 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि भारतीय टीम में वापसी की कोशिश के तहत उनके लिए हर रन बहुत महत्वपूर्ण होगा।

इस सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘‘ मुझे लगता है कि इस समय मुझे जिस मैच में भी खेलने का मौका मिला रहा है वह मेरे लिए काफी अहम है।  मैं दलीप ट्रॉफी में खेलूं या मुंबई के लिए मैच खेलूं, मुझे लगता है कि मेरे लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना बहुत महत्वपूर्ण है।’’

शॉ हालांकि दलीप ट्रॉफी के सेमीफाइनल की दोनों पारियों में अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने में नाकाम रहे। उन्होंने 25 और 26 रन की पारी खेली।

शॉ ने कहा कि यहां बल्लेबाजों के लिए परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण थी लेकिन उनके पास इससे निपटने के लिए योजना थी।

उन्होंने कहा, ‘‘ यह संभव नहीं है कि आप हमेशा परफेक्ट रहे। इस तरह की चीजें होने (रन नहीं बनने) के बाद मैं और अधिक मेहनत करने की कोशिश करता हूं। टी20 थोड़ा अधिक आक्रामक रवैया अपनाना होता है, लेकिन मानसिकता ऐसी ही होती है।’’ (PTI)

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों (Latest Cricket News, Sports News, Breaking Sports News, Viral Video) को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

Editors pick