Cricket
हनुमा विहारी को ACA से लंबी लड़ाई के बाद मिली एनओसी, टीम बदलने के लिए तैयार

हनुमा विहारी को ACA से लंबी लड़ाई के बाद मिली एनओसी, टीम बदलने के लिए तैयार

भारतीय क्रिकेटर हनुमा विहारी को लंबे विवाद के बाद एसीए ने एनओसी दे दी है। यह जानकारी उन्होंने सोशल मीडिया पर एसोएिशल को ट्रोल करते हुए दी।

भारतीय बल्लेबाज हनुमा विहारी अब आंध्र क्रिकेट एसोसिएशन का साथ आसानी से छोड़ सकते हैं। एसोसिएशन ने आखिरकार उन्हें दूसरे प्रदेश से खेलने के लिए एनओसी दे दी है। जनवरी में रणजी ट्रॉफी के दौरान विहारी और 17वें खिलाड़ी पृथ्वी राज के बीच हुए विवाद के बाद विहारी ने राज्य बदलने का फैसला लिया था। इसके बाद एनओसी को आने में करीब दो महीनों का समय लग गया।

हनुमा विहारी, पृथ्वी राज और एसीए के बीच क्या है विवाद?

रणजी मुकाबले के दौरान आंध्र प्रदेश के कप्तान हनुमा विहारी ने कथित तौर पर प्रदेश के बड़े राजनेता के बेटे और स्क्वॉड के 17वें सदस्य पृथ्वी राज को किसी बात के लिए डांटा था। इसके बाद विवाद यहां तक आ गया कि विहारी को कप्तानी पद से इस्तीफा देने के लिए कहा गया।

हनुमा विहारी ने लिखा, “मैं 2 महीने से एनओसी मांग रहा हूं, उन्हें 4 बार मेल कर चुका हूं। मेरी एनओसी नहीं दी। अब जब चीजें बदल गई हैं, तो उन्होंने तुरंत मेरी एनओसी जारी कर दी है। हाहा।”

“मैंने हमेशा आंध्र क्रिकेट के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है, लेकिन एसोसिएशन से मेरे साथ जो व्यवहार हुआ है वह अस्वीकार्य है। मैं अब ऐसी परिस्थितियों में खेलना जारी नहीं रख सकता।”

यह भी देखेंः ENG vs SCO: बारिश में धुला मुकाबला, इंग्लैंड के लिए यूरोपियन टीम से मैच जीतना अभी भी सपना

हनुमा विहारी vs एसीए- पूरा घटनाक्रम

  • 5 जनवरी: विहारी ने 17वें खिलाड़ी पृथ्वीराज को आंध्र प्रदेश बनाम बंगाल रणजी मैच के दौरान फंटकार लगा दी। इसके बाद उन्हें कप्तानी पद से इस्तीफा देने के लिए कहा गया।
  • 26 फरवरी: विहारी ने बयान जारी किया और आंध्र के लिए कभी नहीं खेलने के लिए कहा।
  • 26 फरवरी: पृथ्वी राज ने भी अपना पक्ष रखा।
  • 26 फरवरी: एसीए ने टीम के अन्य साथियों और सहयोगी स्टाफ की शिकायतों पर आंतरिक जांच शुरू की।
  • 26 फरवरी: विहारी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘प्रयास करते रहो…’
  • 28 मार्च: एसीए ने विहारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया।
  • 29 मार्च: विहारी ने एसएीए ने एनओसी की मांग की।
  • 4 मार्च: करीब दो महीनों के इंतजार के बाद विहारी को एनओसी जारी कर दी गई।

Editors pick