Cricket
IND vs WI: बल्लेबाजों का फ्लॉप शो, पंड्या की कप्तानी, टीम इंडिया की टी20 सीरीज में हार के 5 प्रमुख कारण

IND vs WI: बल्लेबाजों का फ्लॉप शो, पंड्या की कप्तानी, टीम इंडिया की टी20 सीरीज में हार के 5 प्रमुख कारण

IND vs ZIM T20 Series कौन हो सकता है गायकवाड़ का ओपनिंग पार्टनर? जानें
हार्दिक पंड्या की कप्तानी में भारत को 5 टी20 मैचों की सीरीज में वेस्टइंडीज के हाथों 3-2 से शिकस्त मिली, टीम इंडिया की हार की 5 वजहें

वेस्टइंडीज ने दमदार प्रदर्शन करते हुए फ्लोरिडा में खेले गए पांचवें और आखिरी टी20 मैच में भारत को 8 विकेट से हराते हुए पांच मैचों की टी20 सीरीज 3-2 से अपने नाम कर ली। ये 2017 के बाद से वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम इंडिया की पहली टी20 सीरीज हार है। भारत ने सीरीज में 0-2 से पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी करते हुए अगले दो मैच जीतते हुए स्कोर 2-2 कर दिया था, लेकिन पांचवें मैच में विंडीज टीम ने खेल के हर क्षेत्र में खुद को बीस साबित करते हुए सीरीज अपन नाम कर ली।

सीरीज के पहले दो मैचों में टीम इंडिया जीत के करीब पहुंचकर भी हार गई। पहले टी20 में 159 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम दबाव के आगे बिखर गई और महज 4 रन से मैच गंवा बैठी। दूसरे टी20 में भी कुछ ऐसा ही हुआ और 153 रन का लक्ष्य रखने के बाद एक समय विंडीज टीम के 8 विकेट 129 रन पर गिराने के बाद टीम इंडिया आखिरी दो विकेट नहीं गिरा पाई और रोमांचक मैच में 2 विकेट से हार गई। सीरीज में 2-2 से बराबरी करने के बाद पांचवें मैच में भी सीरीज बचाने के दबाव में नजर आई और 20 ओवरों में 165 रन ही बना सकी, जिसे अपनी ताबड़तोड़ बैटिंग से विंडीज टीम ने बौन साबित करते हुए 18 ओवरों में ही मैच जीत लिया।

वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज में टीम इंडिया की हार की 5 प्रमुख वजहें

1.टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी का फ्लॉप शो

इस पूरी टी20 सीरीज में टीम इंडिया अच्छी शुरुआत के लिए तरसती रही। केवल चौथे मैच को छोड़ दें, तो ओपनिंग जोड़ी टीम इंडिया को कभी भी जोरदार शुरुआत नहीं दिला पाई। पहले दो मैचों में उसने ईशान किशन और शुभमन गिल की जोड़ी को अपनाया, लेकिन ये जोड़ी नाकाम रही। पहले मैच में गिल-किशन की जोड़ी पहले विकेट के लिए 5 रन तो दूसरे टी20 में 16 रन ही जोड़ पाई।

तीसरे टी20 में भारत ने ईशान किश की जगह यशस्वी जायसवाल और शुभमन गिल की जोड़ी से ओपनिंग कराई, लेकिन ये जोड़ी भी फ्लॉप रही और महज 6 रन जोड़ पाई। चौथे मैच में जरूर जायसवाल और गिल की जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 165 रन की साझेदारी की, जो टी20 में भारत के लिए संयुक्त रूप से सबसे बड़ी ओपनिंग साझेदारी है। इसका असर भी नजर आया और भारत ने इस मैच में 9 विकेट से शानदार जीत दर्ज की। लेकिन सीरीज के पांचवें मैच में एक बार फिर टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी फ्लॉप रही और यशस्वी-शुभमन की जोड़ी केवर 6 रन ही बना पाई।

Shubman Gill Yashaswi Jaiswal
शुभमन गिल और यशस्वी जायसवाल की जोड़ी ने तीसरे टी20 में 165 रन की ओपनिंग साझेदारी की थी।

2. निकोलस पूरन से नहीं निपट पाई टीम इंडिया

वेस्टइंडीज की टी20 सीरीज जीत में निकोलस पूरन ने सबसे अहम भूमिका निभाई। पूरन ने टी20 सीरीज में 5 पारियों में 35.20 के औसत से सर्वाधिक 176 रन बनाए। पूरन का बल्ला जब भी चला, विंडीज टीम ने जीत हासिल की और जब भी वह फ्लॉप हुए कैरेबियाई टीम को मात मिली। पहले और दूसरे टी20 में उन्होंने क्रमश: 41 और 67 के स्कोर बनाए और वेस्टइंडीज ने जीत दर्ज की।

तीसरे और चौथे टी20 में जब वह 20 और 1 के स्कोर के साथ नाकाम रहे तो वेस्टइंडीज को शिकस्त मिली। पांचवें टी20 में पूरन ने 47 रन की जोरदार पारी खेली और विंडीज टीम फिर से जीत गई। इस पूरी टी20 सीरीज में पूरन के खिलाफ टीम इंडिया के गेंदबाज संघर्ष करते नजर आए।

Nicholas Pooran WI
निकोलस पूरन का बल्ला टी20 सीरीज में भारत के खिलाफ जमकर बोला, 5 मैचों में ठोके सर्वाधिक 174 रन।

3. टीम इंडिया के बल्लेबाजों की नाकामी

इस पूरी टी20 सीरीज में टीम इंडिया के बल्लेबाज अपना असर छोड़ पाने में नाकाम रहे। केवल सूर्यकुमार यादव और तिलक वर्मा के छोड़ दें तो बाकी के बल्लेबाज रन बनाने के लिए जूझते नजर आए। पहले दो टी20 में फ्लॉप रहने के बाद सूर्या ने तीसरे टी20 में 44 गेंदों में 83 रन और पांचवें टी20 में 45 गेंदों में 61 रन की जोरदार पारी खेली। सूर्या के अलावा केवल तिलक वर्मा ही इस सीरीज में प्रभावित कर पाए।

अपनी डेब्यू टी20 सीरीज में तिलक वर्मा ने एक अर्धशतक समेत 173 रन बनाए और सीरीज में भारत के लिए सर्वाधिक और कुल मिलाकर संयुक्त रूप से दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। इन दोनों को अलावा ज्यादातर मैच (केवल चौथे को छोड़कर) में बाकी के बल्लेबाज बल्ले से दम दिखाने में असफल रहे।

Tilak Varma vs WI
तिलक वर्मा ने अपनी डेब्यू टी20 सीरीज में दमदार प्रदर्शन करते हुए भारत की ओर से बनाए सर्वाधिक 173 रन।

4. हार्दिक पंड्या की कप्तानी और बैटिंग पर उठे सवाल

टी20 सीरीज में सबसे ज्यादा सवाल भारतीय कप्तान हार्दिक पंड्या की कप्तानी और रवैये पर उठे। उदाहरण के लिए दूसरे टी20 में जब 153 रन के लक्ष्य के जवाब में एक समय विंडीज टीम 129 रन पर 8 विकेट गंवा चुकी थी। रोमांचक क्षणों में जब विंडीज टीम को 12 गेंदों में 12 रन की जरूरत थी तो पंड्या के 19वें ओवर में युजवेंद्र चहल से गेंदबाजी न कराने के फैसले की आलोचना हुई। उस मैच में चहल ने 3 ओवरों में 19 रन देकर 2 विकेट झटके थे। भारत ये मैच 19वें ओवर में ही 2 विकेट से हार गया।

पंड्या पूरी सीरीज में बल्ले से भी जूझते नजर आए और 19, 24, 20* और 14 के स्कोर ही बना पाए।

साथ ही तीसरे टी20 में टीम इंडिया की जीत के दौरान खुद विजयी छक्का लगाकर दूसरे छोर पर मौजूद तिलक वर्मा के अर्धशतक से दूर रह जाने को लेकर भी पंड्या ट्रोल हुए थे। टी20 सीरीज गंवाने के बाद पंड्या का ‘एक सीरीज मायने नहीं रखती और कभी-कभी हार भी अच्छी होती है’, जैसे बयानों से भी उनके रवैये पर सवाल उठे।

Hardik Pandya vs WI
वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज में हार के बाद कप्तान हार्दिक पंड्या ने कहा, ‘एक सीरीज मायने नहीं रखती।’

5. टीम इंडिया का अनुभवहीन पेस अटैक

जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज की गैर-मौजूदगी में भारतीय पेस अटैक अनुभवहीन नजर आया और मुकेश कुमार और अर्शदीप सिंह प्रभाव डालने में नाकाम रहे। अर्शदीप सिंह ने 7 विकेट तो लिए लेकिन 9.17 के इकॉनमी रेट से रन लुटाए। वहीं सभी मैचों में खेलने के बावजूद मुकेश कुमार 3 विकेट ही ले सकते जबकि उनका इकॉनमी रेट 8.80 रहा। हार्दिक पंड्या ने 8.4 की इकॉनमी दर से 4 विकेट झटके।

सबसे खास बात ये रही कि भारतीय पेस अटैक वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों के लिए खतरा नहीं बन पाया और पावरप्ले में असर छोड़ने में नाकामयाब रहा। साथ ही इनमें से किसी भी गेंदबाज की भूमिका ही नहीं तय हो पाई और वे पारी में अलग-अलग ओवरों में गेंदबाजी करते रहे।

Editors pick