CWG 2022 LIVE: पिता चलाते हैं पान की दुकान, बेटे ने देश को दिलाया पहला मेडल, जानें कौन है संकेत महादेव सरगर?- Check Out

CWG 2022 LIVE: संकेत महादेव सरगर (Sanket Mahadev Sargar) ने बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों 2022 (CWG 2022) में भारत को पहला पदक…

CWG 2022 LIVE: बर्मिंघम में संकेत महादेव सरगर ने दिलाया भारत को पहला पदक, वेटलिफ्टिंग में जीता Silver Medal
CWG 2022 LIVE: बर्मिंघम में संकेत महादेव सरगर ने दिलाया भारत को पहला पदक, वेटलिफ्टिंग में जीता Silver Medal

CWG 2022 LIVE: संकेत महादेव सरगर (Sanket Mahadev Sargar) ने बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों 2022 (CWG 2022) में भारत को पहला पदक दिलाया है। 21वर्षीय संकेत ने क्लीन एंड जर्क राउंड में 135 किग्रा के साथ अपने 113 किग्रा के राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी करके टॉप स्थान हासिल किया। दरअसल, क्लीन एंड जर्क राउंड में चोटिल होने के कारण वह सिर्फ 1 किलो से गोल्ड मेडल (Gold Medal) से चूक गए। खेल जगत की ताजा खबरों के लिए जुड़े रहिए- hindi.insidesport.in 

21वर्षीय संकेत तीन बार के राष्ट्रीय चैंपियन रह चुके हैं। वहीं वो स्वभाव से बेहद शर्मीले हैं और मुकाबलों के दौरान वो अपनी टीम के समर्थन स्टाफ के अलावा वो किसी से बात नहीं करते।
CWG 2022 LIVE: संकेत महादेव सरगर ने जीता पहला मेडल
CWG 2022 LIVE: संकेत महादेव सरगर ने जीता पहला मेडल

महाराष्ट्र के सांगली के रहने वाले संकेत के पिता की पान की दुकान है और वो अपने पिता की काफी मदद करते हैं। इसलिए वो अब अपने पिता को आराम करते देखना चाहते हैं। इस साल फरवरी में सिंगापुर वेटलिफ्टिंग इंटरनेशनल में संकेत ने 256 किग्रा उठाकर कॉमनवेल्थ और राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिया था।

यह भी पढ़ें: Commonwealth Games 2022 medals: बर्मिंघम कॉमनवेल्थ के मेडलों से जुड़ी रोचक बातें, यहां देखें

संकेत ने पदक जीतने के बाद इकोनॉमिक टाइम्स से बात करते हुए कहा कि, अगर मैं गोल्ड जीत सकता हूं तो मुझे यकीन है कि लोग मुझे पहचानेंगे। ये मेरा सपना है कि मैं अपने पिता को सपोर्ट कर सकूं और जो कुछ भी उन्होंने मेरे लिए किया है मैं उसका आभार व्यक्त कर सकूं।

अब संकेत का अगला टारगेट 2024 पेरिस ओलंपिक है जहां वो देश का नाम रोशन करना चाहते हैं।
संकेत ने इस साल की शुरुआत में कहा था, “मैं इसे 2024 के ओलंपिक में भी मेडल लाना चाहता हूं और इसके लिए मुझे 61 किग्रा तक बढ़ना होगा। यह एक बड़ी छलांग होगी और इसके लिए पूरी तरह से तैयार होने में मुझे दो साल लगेंगे, लेकिन मैं वहां पहुंचने के लिए दृढ़ हूं।”

उन्होंने आगे कहा, “हां, मुझे इसकी (नकद पुरस्कार) जानकारी है, लेकिन एक बात जो मैं आपको बता सकता हूं, वह यह है कि मेरे रास्ते में जो कुछ भी आता है, मेरी महत्वाकांक्षा नहीं बदलेगी। मैं बेहतर बनना चाहता हूं और अपने देश के लिए ओलंपिक पदक जीतना चाहता हूं।”

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

Share This: