CWG 2022 LIVE: नूह दस्तगीर हैं Mirabai Chanu के बहुत बड़े फैन, पाकिस्तान के लिए जीता पहला गोल्ड मेडल

CWG 2022 LIVE: कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (CWG 2022) में पाकिस्तान (Pakistan) को वेटलिफ्टर नूह दस्तगीर बट (Nooh Dastgir Butt) ने पहला गोल्ड…

CWG 2022 LIVE: नूह दस्तगीर हैं Mirabai Chanu के बहुत बड़े फैन, पाकिस्तान के लिए जीता पहला गोल्ड मेडल
CWG 2022 LIVE: नूह दस्तगीर हैं Mirabai Chanu के बहुत बड़े फैन, पाकिस्तान के लिए जीता पहला गोल्ड मेडल

CWG 2022 LIVE: कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (CWG 2022) में पाकिस्तान (Pakistan) को वेटलिफ्टर नूह दस्तगीर बट (Nooh Dastgir Butt) ने पहला गोल्ड मेडल (Gold Medal) दिलाया है। इसके साथ ही जब उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था तो उन्हें बधाई देने मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) पहुंची, इस दौरान भारत की सुपरस्टार चानू ने उन्हें बधाई दी। खेल की ताजा खबरों के लिए जुड़े रहिए- hindi.insidesport.in

CWG 2022 LIVE: नूह दस्तगीर हैं Mirabai Chanu के बहुत बड़े फैन, पाकिस्तान के लिए जीता पहला गोल्ड मेडल
CWG 2022: Mirabai Chanu

ओलंपिक पदक विजेता के रूप में, चानू ने खुद को सुपरस्टारडम तक पहुंचा दिया है और न केवल भारत में बल्कि पड़ोसी देश के वेटलिफ्टरों के लिए भी वो एक आइकन हैं। इस दौरान बट ने पुरुषों के 109+ किग्रा वर्ग में 405 किग्रा के रिकॉर्ड लिफ्ट के साथ गोल्ड मेडल जीतने के बाद कहा, “यह मेरे लिए बहुत गर्व का क्षण था जब उन्होंने (चानू) मुझे बधाई दी और मेरे प्रदर्शन की प्रशंसा की।”

यह भी पढ़ें: CWG 2022: महिलाओं की 200 मीटर रेस जीतकर सेमीफाइनल में पहुंची Hima Das, 23.42 सेकेंड में हासिल किया पहला स्थान

CWG 2022 LIVE: 24 वर्षीय पाकिस्तानी ने तीनों खेलों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। उन्होंने, स्नैच में 173, क्लीन एंड जर्क में 232 और कुल मिलाकर। वहीं उन्होंने कहा, “हम मीराबाई से प्रेरणा लेते हैं, उन्होंने हमें विश्वास दिलाया कि हम दक्षिण एशियाई देशों के एथलीट भी भी ओलंपिक में पदक जीत सकते हैं। जब उन्होंने टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीता तो हमें उन पर बहुत गर्व हुआ।”

वहीं बता दें कि इसी श्रेणी में गुरदीप सिंह ने कांस्य पदक जीता है। बट भारतीय को अपने करीबी दोस्तों में से एक मानते हैं। उनका आगे कहना है कि, हम पिछले सात-आठ सालों से बहुत अच्छे दोस्त हैं। हमने कई बार विदेश में एक साथ ट्रेनिंग की है। हम हमेशा संपर्क में हैं।

इसके साथ ही बट के लिए, यह कभी भी भारत-पाक लड़ाई नहीं थी, बल्कि अपने सर्वश्रेष्ठ को पार करने के लिए एक व्यक्तिगत चुनौती थी। उन्होंने गुरदीप के बारे में कहा, “ऐसा नहीं था कि मैं भारत के एक भारोत्तोलक के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहा था। मैं सिर्फ अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहता था और इसे यहां जीतना चाहता था।”

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

More from insidesport
Share This: