Athletics
KISEC: श्रीनगर के खेलो इंडिया केंद्र से जुड़ेंगे कयाकिंग और कैनोइंग

KISEC: श्रीनगर के खेलो इंडिया केंद्र से जुड़ेंगे कयाकिंग और कैनोइंग

कयाकिंग और कैनोइंग भी जुड़ेंगे श्रीनगर के खेलो इंडिया केंद्र से
KISEC: श्रीनगर के खेलो इंडिया केंद्र से जुड़ेंगे कयाकिंग और कैनोइंग- खेल मंत्रालय ने शनिवार को श्रीनगर स्थित खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्र (KISEC) में कयाकिंग और कैनोइंग के अभ्यास की सुविधाएं जोड़ने का फैसला किया जिससे जम्मू कश्मीर में इस तरह के खेलों को बढ़ावा दिया जा सके. जम्मू कश्मीर खेल परिषद और राज्य सरकार […]

KISEC: श्रीनगर के खेलो इंडिया केंद्र से जुड़ेंगे कयाकिंग और कैनोइंग- खेल मंत्रालय ने शनिवार को श्रीनगर स्थित खेलो इंडिया राज्य उत्कृष्टता केंद्र (KISEC) में कयाकिंग और कैनोइंग के अभ्यास की सुविधाएं जोड़ने का फैसला किया जिससे जम्मू कश्मीर में इस तरह के खेलों को बढ़ावा दिया जा सके.

जम्मू कश्मीर खेल परिषद और राज्य सरकार ने इन दो खेलों को शामिल करने का अनुरोध किया था. केआईएससीई की शुरुआत पिछले साल अप्रैल में की गई थी. यहां रोइंग की व्यवस्था पहले से है.

खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने विज्ञप्ति में कहा, “राज्य के खिलाड़ियों को कयाकिंग और कैनोइंग में अंतरराष्ट्रीय प्रति​योगिताओं जैसे विश्व चैंपियनशिप और एशियाई चैंपिय​नशिप में प्रदर्शन प्रभावशाली रहा है.”

उन्होंने कहा, “केआईएससीई श्रीनगर में इन दोनों खेलों को शामिल करने का फैसला किया गया है ताकि राज्य के अधिक खिलाड़ियों को इस खेल में अच्छा प्रदर्शन करने और विश्वस्तरीय प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिले.”

भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) और जम्मू कश्मीर खेल परिषद इन दोनों खेलों में अभ्यास और अन्य आवश्यकताओं का आकलन करेंगे. इनमें प्रशिक्षण और उपकरण संबंधी सहयोग भी शामिल है.

इस बारे में जम्मू कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने कहा, “हम श्रीनगर केआईएससीई का अधिकतम उपयोग सुनिश्चित करना चाहते हैं ताकि यहां अधिक से अधिक खिलाड़ी अभ्यास कर सकें.”

उन्होंने कहा, “इन दो खेलों के जुड़ने से खिलाड़ियों की अधिक भागीदारी होगी और अन्य राज्यों की खेल प्रतिभाएं भी यहां प्रशिक्षण हासिल करना चाहेंगे. मुझे खुशी है कि खेल मंत्रालय और राज्य सरकार ने इसे संभव बनाने के लिए मिलकर काम किया है.”

ये भी पढ़ें – J&K के फुटबॉल ट्रेनर्स के लिये वर्चुअल कार्यशाला, पूर्व कोच की निगरानी में होगा आयोजन

Editors pick