Athletics
CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले बॉक्सर Lovlina Borgohain ने लगाया मानसिक उत्पीड़न का आरोप

CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले बॉक्सर Lovlina Borgohain ने लगाया मानसिक उत्पीड़न का आरोप

CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले बॉक्सर Lovlina Borgohain ने लगाया मानसिक उत्पीड़न का आरोप- Check Out
CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (Commonwealth Games) की शुरुआत होने होने में अब बस कुछ ही दिन रह गए हैं। लेकिन उससे पहले भारतीय दल में विवाद शुरु हो गया है। दरअसल ओलंपिक मेडलिस्ट (Oylmpic Medalist) बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) ने एक पोस्ट करते हुए मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया है। इस दौरान उन्होंने […]

CWG 2022: कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (Commonwealth Games) की शुरुआत होने होने में अब बस कुछ ही दिन रह गए हैं। लेकिन उससे पहले भारतीय दल में विवाद शुरु हो गया है। दरअसल ओलंपिक मेडलिस्ट (Oylmpic Medalist) बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) ने एक पोस्ट करते हुए मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि उनके कोच को काफी देर से दल में शामिल किया गया है। CWG 2022 से सम्बंधित खबरें पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

बता दें कि, लवलीना बोरगोहेन ने ट्वीटर पर एक पोस्ट शेयर किया। जिसमें उन्होंने लिखा, “आज मैं बहुत दुख के साथ कहती हूं कि मेरे साथ बहुत उत्पीड़न हो रहा है। हर बार मैं, मेरे कोच जिन्होंने मुझे ओलंपिक में मेडल लाने में मदद की उन्हें बार-बार हटाकर मेर ट्रेनिंग प्रक्रिया और प्रतियोगिता में हमेशा परेशानी खड़ी करते हैं। इनमें से एक कोच संध्या गुरुंग जो द्रोणाचार्य अवॉर्डी भी हैं, मेरे दोनों कोच को कैम्प में भी ट्रेनिंग के लिए बार-बार हाथ जोड़ने के बाद बहत लेट से शामिल किया जाता है। मुझे इससे ट्रेनिंग मैं बहुत परेशानियां उठानी पड़ती है और मानसिक उत्पीड़न तो होता ही हैं।”

साथ ही लवलीना ने कहा, “अभी मेरे कोच संध्या गुरुंग कॉमनवेल्थ विलेज से बाहर हैं और उन्हें एंट्री नहीं मिल रही है। इसलिए मेरी ट्रेनिंग प्रक्रिया आठ दिन पहले रुक गई है क्योंकि मेरे दूसरे कोच को भी इंडिया वापस भेज दिया है। बार-बार मेरे कहने के बावजूद भी ये सबकुछ हुआ जिससे मुझे काफी मानसिक उत्पीड़न झेलना पड़ा है। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि मैं खेल पर कैसे फोकस करुं।

यह भी पढ़ें: CWG 2022 Opening Ceremony: कॉमनवेल्थ खेलों में भारत का ध्वजवाहक नीरज या पीवी सिंधु? IOC अब तक नहीं ले पाया फैसला

बता दें कि, लवलीना ने बताया कि इसके चलते मेरा लास्ट वर्ल्ड चैंपियनशिप भी खराब हुई और इस राजनीति के चलते मैं अपना गेम खराब नहीं करना चाहती हूं। इसलिए आशा करती हूं कि मैं मेरे देश के लिए राजनीति को तोड़कर मेडल ला सकूं, जय हिंद। वहीं लवलीना के इस पोस्ट के बाद से ही उनके सपोर्ट में कई लोग आए हैं। इस लिस्ट में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी भी भारतीय बॉक्सर के सपोर्ट में आई हैं। उन्होंने ट्विट करते हुए लिखा कि, लवलीना हमारे राष्ट्र के लिए एक संपत्ति है, उन्हें हर तरह से प्रोत्साहित और समर्थन किया जाना चाहिए। इसलिए मुझे उम्मीद है कि सरकार उनकी शिकायत पर गौर करते हुए उनकी परेशानी को दूर करने का प्रयास करेगी।

संध्या को भारतीय दल में आखिरी क्षणों शामिल किया गया था, जिसके कारण उनका एक्रीडेशन नहीं पहुंच सका और बर्मिंघम पहुंचने पर उन्हें हवाई अड्डे पर रोक लिया गया. वह इसके बाद उस होटल में रुकीं जहां अतिरिक्त अधिकारी ठहरे हुए हैं. गायत्री को अभी भी अपने वीजा का इंतजार हैं.

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले संध्या गुरुंग और खेल मनोचिकित्सक गायत्री वर्तक को भारतीय दल में शामिल किया गया है। संध्या गुरुंग राष्ट्रीय शिविर में सहायक कोच हैं और वो टोक्यो में लवलीना बोरगोहेन का मार्गदर्शन कर रही हैं। भारतीय ओलंपिक संघ के एक सूत्र ने बताया कि संध्या गुरुंग और गायत्री वर्तक को भारतीय दल में शामिल किया गया है। संध्या को भारतीय दल में आखिरी क्षणों शामिल किया गया था, जिसके कारण उनका एक्रीडेशन नहीं पहुंच सका और बर्मिंघम पहुंचने पर उन्हें हवाई अड्डे पर रोक लिया गया। वह इसके बाद उस होटल में रुकीं जहां अतिरिक्त अधिकारी ठहरे हुए हैं. गायत्री को अभी भी अपने वीजा का इंतजार हैं।

वहीं सूत्र ने बताया कि, संध्या गुरुंग पहले ही बर्मिंघम पहुंच चुकी हैं जबकि गायत्री को वीजा के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। जो कि मंगलवार को आएगा, पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी गायत्री इन खेलों में मुख्य रूप से टेबल टेनिस खिलाड़ियों की मदद करेंगी। इससे पहले वह अतीत में लक्ष्य सेन और स्क्वॉश खिलाड़ी सौरव घोषाल की मदद कर चुकी हैं। टेबल टेनिस खिलाड़ियों ने भारतीय दल में उन्हें शामिल नहीं करने पर निराशा जताई थी।

क्रिकेट और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

Editors pick