Athletics
कौन हैं किरण बालियान, जिन्होंने भारत को 72 साल बाद दिलाया शॉट पुट में पहला एशियन गेम्स मेडल?

कौन हैं किरण बालियान, जिन्होंने भारत को 72 साल बाद दिलाया शॉट पुट में पहला एशियन गेम्स मेडल?

किरण बालियान एशियन गेम्स मेंं बनीं ब्रॉन्ज जीतने वाली 72 सालों में पहली भारतीय महिला।
Kiran Baliyan Shot put medal: किरण बालियान ने शॉट पुट में मेडल दिलाते हुए भारत को एशियन गेम्स में 72 सालों बाद दिलाया इस इवेंंट का मेडल

किरण बालियान शुॉटपुट इवेंट में एशियन गेम्स मेडल जीतने वाले वाली 72 सालों में पहली भारतीय महिला बन गई हैं। किरण ने शुक्रवार को शॉट पुट इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीतते हुए ये उपलब्धि हासिल की।

24 वर्षीय बालियान ने अपने तीसरे प्रयास में लोहे की गेंद को 17.36 मीटर की दूरी तक फेंककर भारत को हांगझू एशियन गेम्स में एथलेटिक्स का पहला मेडल दिलाया। बालियान मौजूदा ओलंपिक चैंपियन लिजिआओ गोंग और जियायुआन सोंग की चीनी जोड़ी के बाद तीसरे स्थान पर रहीं। वे 17 मीटर का आंकड़ा पार करने वाली एकमात्र तीन एथलीट में से एक रहीं। गोंग ने 19.58 मीटर के विशाल थ्रो के साथ गोल्ड पदक जीता।

इसके साथ ही बालियान एशियन गेम्स के शॉट पुट में मेडल जीतने वाली केवल दूसरी भारतीय महिला बन गईं। इससे पहले 1951 में नई दिल्ली में हुए पहले एशियन गेम्स में बारबरा बेवस्टर नामक एक एंग्लो-इंडियन ने शॉट पुट में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

इस इवेंट में एक और भारतीय मनप्रीत कौर 16.25 मीटर थ्रो के साथ पांचवें स्थान पर रहीं।

बालियान ने इस साल अगस्त में  कनाडा में आयोजित इंटरनेशनल पुलिस गेम्स में शॉटपुट में हिस्सा लेकर 18.13 मीटर की दूरी तय कर प्रतियोगिता में नया मीट रिकॉर्ड बनाते हुए गोल्ड मेडल जीता था।

किरण ने इससे पहले 10 सितंबर को चंडीगढ़ में इंडियन ग्रैंड प्रिक्स 5 में 17.92 मीटर की दूरी के साथ सीजन और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए दूसरा स्थान हासिल किया था।

मेडल जीतने के बाद किरण बालियान ने कहा, ”मैं इतिहास नहीं जानती थी (1951 एशियन गेम्स के बाद शॉट पुट में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला)। मेरा ध्यान अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर था। मैं वह नहीं कर सकी और मैं अपने प्रदर्शन से खुश नहीं हूं। लेकिन मैंने एक मेडल जीता, इसलिए मैं खुश हूं।”

कौन हैं ‘एक्सीडेंटल’ शॉट पुटर बनीं किरण बालियान?

राजस्थान पुलिस में कार्यरत किरण बालियान के पिता सतीश बालियान उत्तर प्रदेश पुलिस में कार्यरत हैं। मेरठ के एक ट्रैफिक पुलिस हेड कॉन्स्टेबल की बेटी किरण बालियान एक्सीडेंटल शॉट पुटर हैं, जिन्होंने 9 साल पहले गलती से शॉट पुट के जूनियर टूर्नामेट में अपना नाम दर्ज करा दिया था।

24 वर्षीय मेरठ निवासी किरण बालियान कुछ साल पहले तक शॉट पुट को लेकर गंभीर नहीं थीं। उन्होंने हंसते हुए इस खेल में लाने का श्रेय अपने कोच रोबिन सिंह को देते हुए कहा, “2014 में मेरठ में नॉर्थ जोन मीट थी और किसी और की जगह गलती से मेरा नाम दर्ज हो गया था, मैं पहले मनोरंजन के लिए भाला फेंकती थी। मेरे कोच ने मुझे आगे बढ़ने के लिए कहा, वहां तीन प्रतिभागी थे और मैं तीसरे स्थान पर रही। इस तरह मेरे लिए शॉट पुट की शुरुआत हुई।”

निश्चिंत और बेपरवाह किरण ने स्वीकार किया कि वह शुरुआत में थोड़ी घबराई हुई थी लेकिन अपने प्रदर्शन को लेकर नहीं। उन्होंने कहा, “प्रदर्शन का कोई दबाव नहीं था। लेकिन पहले एशियाई खेलों में इतनी बड़ी भीड़, कोई भी शुरुआत में लय में आने से पहले घबरा जाएगा। यहीं वहां था।”

Editors pick