Athletics
एशियन गेम्सः भारत ने बैडमिंटन में जीता रजत पदक, 37 साल बाद किया ये कारनामा

एशियन गेम्सः भारत ने बैडमिंटन में जीता रजत पदक, 37 साल बाद किया ये कारनामा

एशियन गेम्स के आठवें दिन भारत ने बैडमिंटन में रजत पदक जीत लिया है। भारत ने यह कारनामा पूरे 37 साल बाद किया है।

Indian Badminton team Asian Games: एशियन गेम्स में भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम ने इतिहास रच दिया। भारतीय टीम ने स्पर्धा में रजत पदक हासिल किया। हालांकि, वह फाइनल में 3-2 से हारे और स्वर्ण पदक से चूक गए। इस स्पर्धा में भारत ने पूरे 37 साल बाद कोई पदक जीता है।

भारत को स्पर्धा में बेस्ट ऑफ फाइव में हार का सामना करना पड़ा। तीन एकल और दो युगल मैचों में भारतीय टीम ने शुरुआती दो मैच अपने नाम कर लिए थे। जिसमें एकल में लक्ष्य सेन और युगल में सात्विक साइराज व चिराग शेट्टी ने भारत को बढ़त दिलाई थी।

इसके बाद ही चीन ने स्पर्धा में तीनों मैच लगातार जीते और स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। तीसरा मैच एकल वर्ग में किदांबी श्रीकांत, चौथै मैच युगल में ध्रुव कपितला – साई प्रतीक और पांचवे एकल मैच में मिथुन मंजूनाथ को हार का सामना करना पड़ा।

प्रणय की जगह शामिल हुए थे मिथुन

फाइनल मैच में भारत के सर्वश्रेष्ठ शटलर एचएस प्रणय चोटिल होने के चलते नहीं खेल सके। पीठ में चोट होने की वजह से प्रणय बाहर रहे। ऐसे में उनकी जगह मिथुन मंजूनाथ को उतारा गया था। भारतीय टीम का यही बदलाव भारी पड़ा।

एशियाड में पहली बार भारत ने जीता है पदक

एशियन गेम्स में अभी तक भारत ने इस स्पर्धा में कोई पदक नहीं जीता था। जबकि, इसके अलावा इस सपर्धा में कोई पदक भारत ने साल 1986 में जीता था। वहीं, पुरुष बैडमिंटन में युगल वर्ग में पहली बार भारत ने रजत पदक जीता है। इस पदक से 37 साल का सूखा भी खत्म हुआ है। भारत की इस जीत पर देश भर से शुभकामनाएं मिली है। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी टीम को पदक जीतने पर बधाई दी। उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से ट्वीट किया है।

Editors pick