Athletics
एशियन गेम्स: कौन हैं भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने के टॉप दावेदार, जानिए

एशियन गेम्स: कौन हैं भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने के टॉप दावेदार, जानिए

23 सितंबर से शुरु होने वाले एशियन गेम्स में भारत के 656 खिलाड़ी में हिस्सा लेंगे। इनसाइड स्पोर्ट ने पदक के दावेदारों पर एक नजर डाली है।

चीन में एशियन गेम्स का आगाज 23 सितंबर से होने जा रहा है। हांगझू में होने जा रहे खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व 656 एथलीट करने के लिए तैयार हैं। इस बार भारत की ओर से सबसे बड़ा दल देश का प्रतिनिधित्व करने जा रहा है। ऐसे में भारतीय खिलाड़ियों से प्रभावशाली प्रदर्शन की भी उम्मीद है। हांगझू में भारत के गोल्डन ब्वॉय नीरज चोपड़ा, मीराबाई चानू, बजरंग पूनिया जैसे एथलीटों से देश को पदकों की उम्मीद है।

नीरज चोपड़ा

पदक के दावेदारों की बात करते हैं ज़हन में सबसे ऊपर नाम नीरज चोपड़ा का आता है। नीरज दावेदारां की सूची में सबसे ऊपर हैं। टोक्यो ओलंपिक में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले नीरज एशियन गेम्स में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 25 वर्षीय खिलाड़ी ने इस सीजन में जैवलिन थ्रो में अभी तक शानदार प्रदर्शन किया है। नीरज ने डायमंड लीग में 88.67 मीटर और 87.66 मीटर थ्रो किया था। वहीं, विश्व चैंपयिनशिप में भी उन्होंने 88.17 मीटर की थ्रो के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया है।

मीराबाई चानू

वेटलिफ्टर मीराबाई चानू आगामी एशियन गेम्स में प्रतिभाग करने वाले दो भारतीय वेटलिफ्टरों में से एक होंगी। टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता चानू 49 किग्रा भार वर्ग में हिस्सा लेंगी। 29 वर्षीय खिलाड़ी का लक्ष्य सीधा स्वर्ण पदक होगा। अगर वह ऐसा कर लेती हैं तो भारत के लिए इस स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली वेटलिफ्टर बन जाएंगी। मीराबाई ने हाल ही में विश्व चैंपियनशिप भी जीती है। वहीं, उनके करियर में अभी तक एशियन गेम्स का पदक ही एकमात्र है जो वह हासिल नहीं कर सकी हैं। पोडियम में शीर्ष पर आने के लिए उनकी कड़ी टक्कर चीन की जियांग हुईहुआ से होगी।

बजरंग पुनिया

एशियन गेम्स के पिछले सत्र में कुश्ती में भारत की ओर से एकमात्र बजरंग पूनिया ही स्वर्ण पदक हासिल करने वाले पहलवान थे। बजरंग ने टोक्यो ओलंपिक में भी कांस्य पदक हासिल किया था। इसके बाद अब उनका लक्ष्य हांगझू में होने जा रहे एशियन गेम्स में अपना यही प्रदर्शन बरकरार रखना होगा। कॉमनवेल्थ गेम्स में लगातार दो पदक जीतने वाले पहलवान की नजर चीन में भी स्वर्ण पर ही होगी। भारत के रवि दहिया एशियन गेम्स के लिए क्वालीफाई करने में असफल रहे थे। ऐसे में कुश्ती में देश की नजरे सिर्फ 29 वर्षीय पहलवान पर ही टिकी हैं। बजरंग को खेलों के लिए ट्रायल से भी छूट दी गई थी।

निखत जरीन

27 वर्षीय निखत जरीन एशियन गेम्स में अपना डेब्यू करने जा रही है। पिछले दो सालों में निखत भारत की सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज बनकर उभरी हैं। वर्ल्ड चैंपयिनशिप 2022 में चैंपियन बनकर उन्होंने काफी सुर्खियां बटोरी थी। वहीं, इसी साल उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक भी जीता था। इस साल की शुरुआत में भी निखत अपने वर्ल्ड चैंपियनशिप टाइटल काे बचाने में पूरी तरह से कामियाब रही हैं। ऐसे में मुक्केबाजी स्पर्धा में एशियन गेम्स स्वर्ण पदक के लिए सभी की निगाहें निखत पर होंगी।

एचएस प्रणय

शटलर एचएस प्रणय इन दिनों अपनी शानदार फार्म में हैं। 30 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने बीडब्लूएफ टूर में अपने शानदार प्रदर्शन की बदौलत रैकिंग में काफी सुधार किया है। साल की शुरुआत में प्रणय ने मलेशियाई मास्टर्स खिताब अपने नाम किया और ऑस्ट्रेलियन ओपन में उप विजेता रहे थे। वहीं, विश्व चैंपियनशिप 2023 में एचएस प्रणय ने कांस्य पदक भी प्राप्त किया था। एशियन गेम्स में बैडमिंटन पर नजर डाले तो यह ऐसा खेल है जिसमें भारत स्वर्ण पदक हासिल करने में नाकाम रहा है। ऐसे में शटलर प्रणय की फार्म को देखते हुए इस बार वह एशियन गेम्स में पदक के लिए मजबूत दावेदारी रखते हैं।

Editors pick